हाइकु : गर्मी/ग्रीष्म/लू/धूप/तपन/घाम

प्रदीप कुमार दाश

रचनाकार- प्रदीप कुमार दाश "दीपक"

विधा- हाइकु

प्रदीप कुमार दाश "दीपक"
——————
गर्मी/ग्रीष्म कालीन हाइकु

01. करारी धूप
कड़कने लगी है
री! गर्मी आई ।
☆☆☆
02. धूप से धरा
दरकने लगी है
बढ़ी जो ताप ।
☆☆☆
03. गर्मी प्रखर
खिला गुलमोहर
प्रेम असर ।
☆☆☆
04. धूप की आँच
देता अमलतास
पंथी को छाँह ।
☆☆☆
05. मन गुलाब
झुलसती धूप ने
जलाये ख़्वाब ।
☆☆☆
06. रवि धधका
धूप में तप कर
झुलसी धरा ।
☆☆☆
07. सूर्य की आग
ग्रीष्म की प्रखरता
बढ़े संताप ।
☆☆☆
08. जेठ-बैशाख
जल की पूजा करें
शीतल ख़्वाब ।
☆☆☆
09. जल मधुर
गर्मी में तरबूज
शीतल कूप ।
☆☆☆
10. लू की तपन
झुलस रही धरा
चाह सावन ।
☆☆☆☆
□ -प्रदीप कुमार दाश "दीपक"
मो.नं. 7828104111

Sponsored
Views 24
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
प्रदीप कुमार दाश
Posts 32
Total Views 411
हाइकुकार : ♢ प्रदीप कुमार दाश "दीपक" ♢ सम्प्रति : हिन्दी व्याख्याता 13 कृतियाँ : -- मइनसे के पीरा, हाइकु चतुष्क, संवेदनाओं के पदचिह्न, रुढ़ियों का आकाश, हाइकु वाटिका, हाइकु सप्तक, हाइकु मञ्जूषा, झाँकता चाँद, प्रकृति की गोद में, ताँका की महक, कस्तूरी की तलाश, छत्तीसगढ़ की हाइकु साधना, वंदेमातरम् ।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia