हसरतें

sudha bhardwaj

रचनाकार- sudha bhardwaj

विधा- कविता

हसरतें
—–

हसरतें तो बहुत पल कम पड़
गयें बताते है।
हसरत है।उसको हरने की जिसको
मजबूरी बताते है।
हसरत है। उनके ग़म हरने की जिनको
लोग सतातें है।
हसरत है।उसे जगानें की जिसे
ज़मीर बताते है।
हसरत है।वो चेहरे चमकाने की जिन्हे लोग प्रतिभा बताते है।हसरत है।उस खुशहाली की जिसे सब सरसब्ज़ बताते है।
हसरत है। उसे मॉ कहने की जिसे शहीद की मॉ बताते है।
हसरत है। उन्हे अपनाने की जो अनाथ
बेसहारा कहाते है।
हसरत तो बहुत है। मेरी पर सबसे बड़ी
एक हसरत है।
उस मानवता को पाने की जिसे लोग
लोग विलुप्त बताते है।

सुधा भारद्वाज
विकासनगर उत्तराखण्ड

Views 35
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
sudha bhardwaj
Posts 58
Total Views 805

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia