हर लम्हा खास है

rekha rani

रचनाकार- rekha rani

विधा- गज़ल/गीतिका

मेरे दोस्त ज़िंदगी का हर लम्हा खास है।
तू हर पल इस तरह जी बस यही पल तेरे पास है।
बीता कल तो सिर्फ़ तुझको दर्द देकर जाएगा।
सिसकियाँ भरेगा तू और वह मुस्कुराएगा।परछाईयां बनके गम की न ढ़क ले उसे जो अब तेरे पास है।
आने वाला कल सिर्फ उम्मीदें जगाएगा,
बेहतर बनाने की आस में नींद भी गंवायेगा।
जी इस अंदाज़ में इस पल को तो तेरा आने वाला कल खुदबखुद बदल जायेगा।
ज़ी भर जी ले उसे जो जो तेरे पास है।
हर पल बुन तू ताबीर इस सुनहरे पल कि जो अब पास है।
पल-पल इस तरह चल जो लकीर बन जाये।
जी इस तरह ज़िन्दगी जो नज़ीर बन जाए।
हर खवाब हक़ीक़त मे बदल गुजर न जाए लम्हा भी बदले बिना।
इस बदलाव के फेर में गुजर न जाए कोई लम्हा भी मुस्कुराए बिना।
सारे बदलाव की वजह तेरी मुस्कान ही खास है।
तुझे तेरे रब ने उस हुनर से नवाज़ा है
तू बेनूर कलियों में भी रंग भर देगा।
जो बेइल्म रह गए उनको रोशन इल्मसे कर देगा।
तेरे इल्म की लौ ज़न्नत सा मुल्क कर देगी।
गरीब की झुग्गी भी रेखा इल्म से जगमग कर देगी।
उसे अपनी मेहनत और रब की रहमत का भरोसा खास है।

Sponsored
Views 32
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
rekha rani
Posts 15
Total Views 421
मैं रेखा रानी एक शिक्षिका हूँ। मै उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ1 मे अपने ब्लॉक में मंत्री भी हूँ। मेरे दो प्यारे फूल (बच्चे) ,एक बाग़वान् अर्थात मेरे पति जो प्रतिपल मेरे साथ रहते हैं। मेरा शौक कविताये ,भजन,लेखन ,गायन, और प्रत्येक गतिविधि मे मुख्य भूमिका निभाना। मेरी उक्ति है कौन सो काज कठिन जगमाहि जो नही होत रेखा तुम पाही। आर्थात जो ठाना वो करना है। गृ हस्थ मे कविताएं न प्रकाशित कर पाईं

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia