हर एक शख्स समय का गुलाम होता है

प्रदीप तिवारी 'धवल'

रचनाकार- प्रदीप तिवारी 'धवल'

विधा- गज़ल/गीतिका

हर एक शख्स समय का गुलाम होता है
कभी तिनका भी उड़ता आसमान होता है .

हमने देखा है उन्हें फुटपाथ पर सोते हुए
जिनका शहर में बड़ा सा मकान होता है.

नसीब न हुई दो गज़ ज़मीन भी जिसे
उनका लाखों का बकाया लगान होता है.

पकड़ कर रक्खी है जिसने भी जमी अपनी
उन्ही बुलंदियों का कायल जहान होता है.

बह जाती है समंदर में कतरा बनकर
ऊँचाइयाँ कि जिनमे गुमान होता है.

जिनके जूनून को झुठलाते रहे आजीवन
उन्ही की खोज का यारों सम्मान होता है.

वो की जिसने ढूँढ़ ली रहगुज़र अपनी
तुम्हारी ही खूबियों वाला इंसान होता है.

धर्म पर दो-चार बातें तुम भी करना सीख लो
आजकल हर कथा वाचक भगवान होता है

भला तुम किस खेत की मूली हो 'धवल',
बड़ा वक्ता भी कभी – कभी बेज़ुबान होता है.

प्रदीप तिवारी 'धवल'
9415381880

Views 186
Sponsored
Author
प्रदीप तिवारी 'धवल'
Posts 17
Total Views 7.7k
मैं, प्रदीप तिवारी, कविता, ग़ज़ल, कहानी, गीत लिखता हूँ. मेरी दो पुस्तकें "चल हंसा वाही देस " अनामिका प्रकाशन, इलाहाबाद और "अगनित मोती" शिवांक प्रकाशन, दरियागंज, नई दिल्ली से प्रकाशित हो चुकी हैं. अगनित मोती को आप (amazon.in) पर भी देख और खरीद सकते हैं. हिंदी और अवधी में रचनाएँ करता हूँ. उप संपादक -अवध ज्योति. वर्तमान में एयर कस्टम्स ऑफिसर के पद पर लखनऊ एअरपोर्ट पर तैनात हूँ. संपर्क -9415381880
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
2 comments