हरियाली

Rajeev 'Prakhar'

रचनाकार- Rajeev 'Prakhar'

विधा- गीत

बहिना बोली यूँ भैया से,
ना झुमका, ना लाली ला l
लाना ही चाहे तो केवल,
ढेरों सी हरियाली ला l
बहिना बोली … l
अब चीं-चीं करते वो पंछी,
बच्चों के वो खेल कहां l
लील लिये आंगन महलों ने,
पहले जैसे मेल कहां l
दाना लाती और फुदकती,
गौरैया मतवाली ला l
लाना ही चाहे तो केवल,
ढेरों सी हरियाली ला l
बहिना बोली … l
नदियां-नाले-दरिया-पोखर,
घातक विष की खान बने l
मद में अन्धे नए दौर के,
लालच की पहचान बने l
जल-पूजन करने से पहले,
जा, जल में खुशहाली ला l
लाना ही चाहे तो केवल,
ढेरों सी हरियाली ला l
बहिना बोली … l
तोहफ़े में इक पौधा देना,
इसमें घटती शान नहीं l
हरियाली से है यह जीवन,
क्यों तुझको यह भान नहीं l
जिस पर कोकिल बैठे, कूके,
अब ऐसी इक डाली ला l
लाना ही चाहे तो केवल,
ढेरों सी हरियाली ला l
बहिना बोली … l
(सर्वाधिकार सुरक्षित)
— राजीव 'प्रखर'
मुरादाबाद
मो. 8941912642

Views 43
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Rajeev 'Prakhar'
Posts 17
Total Views 752
I am Rajeev 'Prakhar' active in the field of Kavita.

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
One comment