हम स्वतंत्र भारत के स्वतंत्र नागरिक हैं ।

Dr Archana Gupta

रचनाकार- Dr Archana Gupta

विधा- लेख

हम स्वतंत्र भारत के स्वतंत्र नागरिक हैं ।हर साल हम स्वाधीनता दिवस और गणतंत्र दिवस जोर शोर से मनाते हैं और अपने महान राष्ट्रीय नेताओं और स्वतंत्रता सैनानियों को उनके बलिदान के लिए याद करके अपनी श्रद्धांजली अर्पित करते हैं । आज देशभक्ति लगता है इन दो दिनों में ही सिमट कर रह गयी है । इन्ही दो दिन देशभक्ति का जूनून उठता है जोशीले भाषण ,नारे, कवितायेँ, शेर, गीत कहे जाते हैं और फिर सब शांत हो जाते हैं । परंतु आज तक क्या हम अंग्रेजों की गुलामी से आज़ाद हो पाये हैं ? ये प्रश्न गौर करने योग्य है क्योंकि अंग्रेजों के जाने के बाद भी हमारी भाषा, रहन सहन, सांस्कृतिक विरासत, नृत्य, संगीत सभी पर अंग्रेजों की छाप है । और हम इन्हें दिल से प्यार करते हैं और अपनाते हैं ।
हमारा भारत दिन प्रतिदिन विकास के नए आयाम छू रहा है परंतु धन विदेशी खातों में जा रहा है । कृषि प्रधान देश भारत में किसान ही आत्महत्या करने पर मज़बूर है । अमीरी और गरीबी के बीच में खाई बढ़ती ही जा रही है । भ्रष्टाचार अपनी चरम सीमा पर है ।डाकजनी, हत्या, बलात्कार सरे आम होना अब आम बात हो गयी है । अपने ही देश में हम कहीं भी सुरक्षित नहीं हैं।

हमारी युवा पीढ़ी जो हमारे देश और समाज का भविष्य है वो भी भ्रष्ट व्यवस्था के चलते बोझिल होती जा रही है और भटकाव की ओर अग्रसर है। क्या इस ओर हमारे कुछ फ़र्ज़ और कर्तव्य नही हैं । आज हम स्वतंत्र है । हमारा देश लोकतान्त्रिक देश है । हमें अपनी सरकार खुद चुनने का अधिकार है परंतु क्या हम अपने मताधिकार का प्रयोग और उचित प्रयोग कर पाते हैं । हमारे ये सभी कार्यकलाप भारत माता को दुख पहुंचाते है जिसे हमारे महान वीरों ने कष्ट सहकर अपनी जान देकर गुलामी की बेड़ियों से मुक्त किया था ।

आज हमें दूसरों से नहीं वरन अपने ही देश में फैले भष्टाचार और आतंकवाद से लड़ना है । दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही अराजकता से लड़ना है । मुखौटा पहने हुए अपनों को पहचानकर उनसे लड़ना है । सीमा पर तो हमारे वीर जवान अपना फ़र्ज़ बखूबी निभा रहे हैं परंतु हमें यानि आम नागरिकों को सिपाही बनकर भ्रष्टाचार आतंकवाद और अन्य बुराइयों से अपने देश की रक्षा करनी होगी । हालांकि बदलाव का दौर आ रहा है परन्तु बहुत धीमा है । हम सभी की इसमें सहभागिता जरुरी है । तभी हम सही मायनों में गर्व से कह सकेंगे हाँ हम स्वतंत्र भारत के स्वतंत्र नागरिक हैं ।
डॉ अर्चना गुप्ता
मुरादाबाद(उ प्र)

Sponsored
Views 43
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Dr Archana Gupta
Posts 260
Total Views 18.8k
Co-Founder and President, Sahityapedia.com जन्मतिथि- 15 जून शिक्षा- एम एस सी (भौतिक शास्त्र), एम एड (गोल्ड मेडलिस्ट), पी एचडी संप्रति- प्रकाशित कृतियाँ- साझा संकलन गीतिकालोक, अधूरा मुक्तक(काव्य संकलन), विहग प्रीति के (साझा मुक्तक संग्रह), काव्योदय (ग़ज़ल संग्रह)प्रथम एवं द्वितीय प्रमुख पत्र पत्रिकाओं में रचनाएँ प्रकाशित।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia