हम लव कुश की सन्तान है

Govind Kurmi

रचनाकार- Govind Kurmi

विधा- कविता

हां जी हम पटेल हैं जिसपर हमें गुमान हैं ।

गर्व से कहते हैं हम लव कुश की सन्तान हैं ।

बहुतायत में होकर भी एकता जिनकी पहचान है ।

टुकड़ों को भारत बनाया वो वल्लभभाई महान हैं ।

भारत की अर्थव्यवस्था की सदियों से हम जान हैं ।

माथे पर मिट्टी सजाये वो भारत का किसान हैं ।

मिट्टी को करते नमन हल जिनका निसान है ।

जी हां हम सदियों से आर्यवर्त्त की शान हैं ।

सच्चाई की कसमें खालो सूरज सा ईमान है ।

भोला भी मत जानो इनमें छत्रपति के प्राण हैं ।

Views 53
Sponsored
Author
Govind Kurmi
Posts 25
Total Views 1.5k
गौर के शहर में खबर बन गया हूँ । १लड़की के प्यार में शायर बन गया हूँ ।
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia