***हम तो कबूतर शांति पथ के***

Sureshpal Jasala

रचनाकार- Sureshpal Jasala

विधा- कविता

***हम तो कबूतर शांति पथ के***

[मुहावरों का प्रयोग]

****************************************

हम तो कबूतर शांति पथ के ,क्यूँ उल्लू हमको घूर रहे।

मानवता है धर्म हमारा , वो मानवता से दूर रहे।।

हर बार दिया मौका हमने ,बस उसकी टेढ़ी पूंछ रही !

बातों से दुष्ट नहीं माना ,तो रण में लातें खूब दई !!

गिड़गिड़ाया पड़ा कदमों में ,सारे ही नखरे चूर रहे !

हम तो कबूतर शांति पथ के ,क्यूँ उल्लू हमको घूर रहे !! [१]

हमदर्दी की गोली से वो ,अक्सर बदहज़मी पाता है !

अस्त्र-शस्त्र की होड़ करे तो , बस मुँह की ही वो खाता है !!

पिट-पिट कर भी फुंकार भरे ,वह लज्जित भी भरपूर रहे !

हम तो कबूतर शांति पथ के ,क्यूँ उल्लू हमको घूर रहे !![२]

दुर्गन्ध विकारों की मन में , नीयत खोटी, चोटी पर है !

मक्कारी का कुनबा जोड़ा ,धरी नींव गद्दारी पर है !!

आतंकी रक्त शिराओं में , विश्व-जन के लिये क्रूर रहे !

हम तो कबूतर शांति पथ के ,क्यूँ उल्लू हमको घूर रहे !! [३]

हर-बार उमड़ कर आता वो,पर तड़फ-तड़फ मर जाता ! है

भारत के शेरों का गर्जन, बस नानी याद दिलाता है !!

खण्ड-खण्ड कर दो तन उनका ,जो मद में अक्सर चूर रहे !

हम तो कबूतर शांति पथ के ,क्यूँ उल्लू हमको घूर रहे !![४]

नापाक इरादे हैं उसके ,वो प्राणी हित में है खतरा !

मिट्टी में उसको दफना दो ,कर दो निष्क्रिय कतरा-कतरा !!

कुचल धरो फन उसका ऐसा ,फिर न वो कभी मगरूर रहे !

हम तो कबूतर शांति पथ के ,क्यूँ उल्लू हमको घूर रहे !![५]

हम तो पुजारी शांति के हैं , मत समझो तुम कमजोर हमें !

जब भी सिर आ पडे मुसीबत, तो आता पाना छोर हमें !!

नौ दो ग्यारह हो जा दुश्मन , बस ऐसा सबक जरूर रहे !

हम तो कबूतर शांति पथ के ,क्यूँ उल्लू हमको घूर रहे !![६]

खून पसीना एक करें हम ,तब ये खुशहाली आती है !

वो आतंकी के साथ खड़ा ,करतूतें नरक डुबाती हैं !!

मर्यादायें जो भूल चुका , वो सदा-सदा मजबूर रहे !

हम तो कबूतर शांति पथ के ,क्यूँ उल्लू हमको घूर रहे !![७]

चरित, धर्म औ शर्म सभी को,वो सच्च तिलांजलि दे बैठा !

मानवता के आभूषण ये ,कभी भाव हमारा न ऐंठा !!

तूती बोल रही भारत की ,ये देश सदा मशहूर रहे !

हम तो कबूतर शांति पथ के ,क्यूँ उल्लू हमको घूर रहे !![८]

फलदार सदा झुककर रहते ,निकृष्ट ही सदा अकड़ते हैं !

गुणवान सदा झंडा गाड़ें ,गुणहीन तो बस गरजते हैं !!

छोड़ चलो अरिताई सारी ,बस प्रेम भरा दस्तूर रहे !

हम तो कबूतर शांति पथ के ,क्यूँ उल्लू हमको घूर रहे !![९]

*******सुरेशपाल वर्मा जसाला (दिल्ली) ,

Views 115
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Sureshpal Jasala
Posts 18
Total Views 603
I am a teacher, poet n writer, published 8 books , started a new Hindi poem method called " Varn piramid or jasala piramid." I have membership n hold posts in many societies. Also Awarded by many societies.

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia