हम जैसे शायद दिवाने नहीं है

gopal pathak

रचनाकार- gopal pathak

विधा- गज़ल/गीतिका

खुला छोड़ा था जिनको दरवाजा अन्दर वो अभी तक आये नहीं है
हमने तो अपनी कहानी बता दी पर जज्वात उनने जताए नहीं है
वो नागिन के जैसी बलखाती चाले बाल अभी तक संभाले नहीं है
तुम्हारे तो पीछे जमाना है पागल पर हम जैसे दिवाने नहीं है
जान देने को तैयार है काफी पर सम्मा के काबिल परवाने नहीं है
पीने वालो की तो लम्बी कतारे लगी है पीने काबिल पैमाने नहीं है
कवि गोपाल पाठक ''कृष्णा''

Sponsored
Views 23
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
gopal pathak
Posts 5
Total Views 111
मै साहित्य का अदना सा कलमकार हूँ माँ शारदे की कृपा से थोडा बहुत लिख लेता हूँ /मै ज्यादातर श्रंगार पर लिखता हूँ/और वीर लिखता हूँ/

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia