हम गुलामी की जानिब है जाने लगे

Pritam Rathaur

रचनाकार- Pritam Rathaur

विधा- गज़ल/गीतिका

ग़ज़ल
212/212/212/212
******************
प्यार को वो मेरे आज़माने लगे
देख कर बेबसी मुस्कुराने लगे
%%%%%%%%%%
बाँध हमको बहन रेशमी डोर से
हाथ तेरी तरफ हम बढ़ाने लगे
@@@@@@@@@
जल पड़ा था ज़माना सनम उस घड़ी
इश्के़ दरया में जब हम नहाने लगे
******************
देख हालत वतन की हमें लग रहा
हम गुलामी की ज़ानिब हैं जाने लगे
############
जख़्म नासूर बनके उभरने लगा
क़ल्ब में दर्द डेरा जमाने लगे
^^^^^^^^^^^^^^^^^^
हक़बयानी नहीं कोई करता यहाँ
झूठ पर लोग पर्दा गिराने लगे
&&&&&&&&&&&&
तेरी नज़रों की ये तो क़रामात थी
थोड़ी सी ही जो पी डगमगाने लगे
———-+++++——
हौसला जब परिन्दों ने की उड़ने की
पर क़तर के वो उनको उड़ाने लगे
+++++++++++++
चोट दिल पर मेरे जब ज़फ़ा का पड़ा
अक़्ल तब जाके मेरे ठिकाने लगे
""""""""""""""""""""""""""""""
एक पल में समझ सब गये आप हो
जो समझने में सबको ज़माने लगे
<<>><>>
हो गई मेरी तस्क़ीन "प्रीतम" तभी
जब मुहब्बत वो हमपे लुटाने लगे
&&&&&&&&&&&&
प्रीतम राठौर भिनगाई
श्रावस्ती (उ०प्र०)
2122 1212 22

Sponsored
Views 13
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Pritam Rathaur
Posts 168
Total Views 1.6k
मैं रामस्वरूप राठौर "प्रीतम" S/o श्री हरीराम निवासी मो०- तिलकनगर पो०- भिनगा जनपद-श्रावस्ती। गीत कविता ग़ज़ल आदि का लेखक । मुख्य कार्य :- Direction, management & Princpalship of जय गुरूदेव आरती विद्या मन्दिर रेहली । मानव धर्म सर्वोच्च धर्म है मानवता की सेवा सबसे बड़ी सेवा है। सर्वोच्च पूजा जीवों से प्रेम करना ।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia