*हम खुद ही अपने दुश्मन क्यों है*

Mahender Singh

रचनाकार- Mahender Singh

विधा- कविता

😊ये तो शायद ठीक से मालूम नहीं,
कि हम खाना ….क्यों खाते है ?
पर ये जरूर मालूम है कि
हम *खार* क्यों खाते है ?

*खार* का अर्थ = चिढना, बुरा मानना,

बनना बिगड़ना तो दस्तूर है जमाने का,
लाख कोशिश करें चाहे दुश्मन भरपूर,
अपना कुछ नहीं बिगड़ना,
जबतक खुद न चाहे,बाल हो सके न बांका,

डॉ महेन्द्र सिंह खालेटिया,
जब तक हमारी चेतना बाह्य गमन करती रहेगी
तब तक हम विकसित नहीं हो सकते,
विकासशील ही रहेंगे,
दूसरों को दुख तो दे सकते है,सुख नहीं,

Sponsored
Views 17
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Mahender Singh
Posts 70
Total Views 1.6k
पेशे से चिकित्सक,B.A.M.S(आयुर्वेदाचार्य)

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia