हमारी हिंदी

Deepesh Dwivedi

रचनाकार- Deepesh Dwivedi

विधा- मुक्तक

नानक कबीर सूर तुलसी बिहारी मीरा
जायसी रहीम रसखान की ये भाषा है
राजकाज सकल समाज की ये वाणी और
भारत के ज्ञान-विज्ञान की ये भाषा है
क्यों न परभाषा की अधीनता को छोड़ें जब
राष्ट्र के आत्मसम्मान की ये भाषा है
नागरी के अक्षर क्षितिज पे उकेर चलें
विश्व देखे भारत महान की ये भाषा है

Sponsored
Views 29
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Deepesh Dwivedi
Posts 14
Total Views 287
साहित्य,दर्शन एवं अध्यात्म मे विशेष रुचि। 30 वर्षो से राजभाषा कार्मिक। गृहपत्रिका एवं सामयीकियों मे कतिपय रचनाओं का प्रकाशन।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia