हमारी बेटी

ALI AHAMAD

रचनाकार- ALI AHAMAD "SANGAM"

विधा- गज़ल/गीतिका

हमारे मन को समझती है हमारी बेटी |
कभी भी जिद नहीं करती है हमारी बेटी ||

मैं जब भी देखता सफ्कत भरी निगाहों से |
मेरे गुनाहों को धो देती है हमारी बेटी ||

हमारे फ़िक्र में रहती हमारी माँ जैसे |
बुरी बाला से बचाती है हमारी बेटी ||

उसी के दम से है महफूज सल्तनत मेरी |
बददुवाओं से भी बचाती है हमारी बेटी ||

फ़िजा में जब भी उड़ाता हूँ भरोसा करके |
चाँद-सूरज सी चमकती है हमारी बेटी ||

अली अहमद"संगम"

Sponsored
Views 1,551
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
ALI AHAMAD
Posts 1
Total Views 1.5k

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia