” ————————————- हमको नहीं बहा ले ” !!

भगवती प्रसाद व्यास

रचनाकार- भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "

विधा- गज़ल/गीतिका

समझ नहीं कुछ पाए तुझको , खत में क्या लिख डालें !
नाम नाम ही रट पाएं हैं , आगे क्या कह डालें !!

सोच में डूबे कुछ तय ना है , क्या है कदम उठाना !
खुशबू जैसे हवा में उड़ते , कैसे भाव सम्भालें !!

प्रश्नचिन्ह आंखों में उभरे , समाधान हम खोजें !
अनुत्तरित उत्तर को यों हम , किसके करें हवाले !!

तेरा आना रहा प्रतीक्षित , मन को बहलाता है !
अविरल बहे ,समय की धारा , हमको नहीं बहा ले !!

तुम भी हो चितचोर बड़े ही , हम भी कोई कम ना !
डोल रहे हैं अपनी मस्ती , जैसे दो मतवाले !!

कुन्दन कुन्दन प्यार हमारा , देखो दमक रहा है !
जिन नयनन में आन बसे हो , वे तो हैं कजियाले !!

चेहरे पड़ते लोग यहां पर , मुश्किल है बच पाना !
लाल लाल डोरे लज़्ज़ा के , सारी चुगली खा लें !!

बृज व्यास

Sponsored
Views 115
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
भगवती प्रसाद व्यास
Posts 122
Total Views 29.2k
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में रचनाओं का प्रकाशन ! एक लम्हा जिन्दगी , रूह की आवाज , खनक आखर की एवं कश्ती में चाँद साझा काव्य संग्रह प्रकाशित ! e काव्यसंग्रह "कहीं धूप कहीं छाँव" एवं "दस्तक समय की " प्रकाशित !

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia