सड़क,बंधुआ मजदूर और भगवान

डॉ.मनोज रस्तोगी

रचनाकार- डॉ.मनोज रस्तोगी

विधा- कविता

सड़क,बंधुआ मजदूर और भगवान

अक्सर
रात को
मैँ शहर मेँ घूमता हूँ
काली, पसरी और
गढ्रढेदार सड़क
देखकर
मुझे अहसास होता है
किसी बंधुआ मजदूर का
जो दिनभर की थकन
उतारने के लिए
पसर गया हो
और
मालिक की तरह
भौंकते हुए कुत्ते
उसकी नीँद मेँ
खलल डाल रहे होँ
सड़क के दोनोँ ओर
फुटपाथ पर
बच्चोँ को सोया देख
मुझे याद आता है
बच्चे भगवान होते हैँ
मैँ सोचता हूं
भगवान का स्थान
क्या फुटपाथ पर होता है

डॉ मनोज रस्तोगी
8,जीलाल स्ट्रीट
मुरादाबाद 244001
उत्तर प्रदेश, भारत
मोबाइल फोन नंबर 9456687822

Sponsored
Views 55
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
डॉ.मनोज रस्तोगी
Posts 3
Total Views 148
हिंदी साहित्य में मुरादाबाद के साहित्यकारों का योगदान पर शोध कार्य, मुरादाबाद की साहित्यिक, सांस्कृतिक, सामाजिक,धार्मिक विरासत पर लेखन, काव्य,लघुकथा, रिपोतार्ज, संस्मरण विधाओं में लेखन, वर्तमान में दैनिक जागरण में उपसंपादक पद पर कार्यरत। सम्पर्क: डॉ. मनोज रस्तोगी 8, जीलाल स्ट्रीट मुरादाबाद 244001 उत्तर प्रदेश,भारत मोबाइल फोन नंबर 9456687822

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia