स्पर्श/संस्पर्श

प्रदीप कुमार दाश

रचनाकार- प्रदीप कुमार दाश "दीपक"

विधा- हाइकु

स्पर्श/संस्पर्श
01. तेरी छुवन
मन बगर गया
मानो बसंत ।
☆☆☆
02.हवा बहकी
सुमनों को छू कर
महका गयी ।
☆☆☆
03.मोम का तन
बत्ती की छुवन से
हुआ गलन ।
☆☆☆
04.माटी का लौंदा
कुम्हार का स्पर्श रे !
कलश पक्का ।
☆☆☆
05. वाह्ह. इन्सान
धरा से उठ कर
छू लिया चाँद ।
☆☆☆
□ प्रदीप कुमार दाश "दीपक"
मो.नं. 7828104111

Views 7
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
प्रदीप कुमार दाश
Posts 24
Total Views 410
हाइकुकार : ♢ प्रदीप कुमार दाश "दीपक" ♢ सम्प्रति : हिन्दी व्याख्याता 10 कृतियाँ : -- मइनसे के पीरा, हाइकु चतुष्क, संवेदनाओं के पदचिह्न, रुढ़ियों का आकाश, हाइकु वाटिका, हाइकु सप्तक, हाइकु मञ्जूषा, झाँकता चाँद, प्रकृति की गोद में, ताँका की महक ।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia