स्थानीय भाषा में लोकगीत

संजय सिंह

रचनाकार- संजय सिंह "सलिल"

विधा- गीत

चला चली पानी भरी आई…
मटकिया अप ने उठाई l

ई मटकी मां जान मेरी अटकी….
जाने कब फूटी जाई l…. चला चली …..

पनघट पर छेड़ नंद का लाला ….
बैठ कदम की डारी l …. चला चली..

ग्वालों की नियति यहां अटकी . ..
लुटी जाए ना जीवन की कमाई l…. चला चली ..

जो जल से भरी जाइ ए मटकी ……
भवसागर तरी जई l….. चला चली…..

जमुना में डूबत चटक गई मटकी ……
मोरी गागर सागर में समाई l…… चला चली..

संजय सिंह "सलील "
प्रतापगढ़,उत्तर प्रदेश I

Sponsored
Views 47
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
संजय सिंह
Posts 114
Total Views 4.3k
मैं ,स्थान प्रतापगढ़ उत्तर प्रदेश मे, सिविल इंजीनियर हूं, लिखना मेरा शौक है l गजल,दोहा,सोरठा, कुंडलिया, कविता, मुक्तक इत्यादि विधा मे रचनाएं लिख रहा हूं l सितंबर 2016 से सोशल मीडिया पर हूं I मंच पर काव्य पाठ तथा मंच संचालन का शौक है l email-- sanjay6966@gmail.com, whatsapp +917800366532

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia