सौभाग्य” (लघु कथा)

aparna thapliyal

रचनाकार- aparna thapliyal

विधा- लघु कथा

आज बेटे की ईन्जिनियरिंग की पढ़ाई पूरी करने पर उसके दीक्षान्त समारोह में उपस्थित माँ अपने अतीत में गोते लगाने लगी।आज उसे देखने लड़का व उसका परिवार आ रहा था,खबर थी कि वो इन्जिनियर है और किसी अच्छी फर्म में कार्यरत,देखने दरशने में अच्छा खासा,नापसंद करने का कोई कारण नज़र नहीं आया अतःघर वालों ने तुरत फुरत सगाई कर कुछ ही दिनों में धूमधाम से शादी कर ससुराल विदा कर दिया।
आँखों में सपनों का संसार सजाये वो बहुत खुश थी।
सुनहरे आकाश में उड़ान भरने के लिए डैनों मं कुलबुलाहट शुरु होने ही लगी थी कि झूठ की कलई उतर गई।
सच खुला तो भाई उसे सम्मान के साथ झूठ के दलदल से निकाल वापस ले आये।
तभी तालियों की गड़गड़ाहट से उसका तंद्रा टूटी,मंच पर उसकी कोख में पला अंकुर डिग्री ग्रहण कर रहा था।
मायके का साथ ,आत्मसम्मान और आत्मविश्वास झूठ से लड़ने की ताकत…
अपने सौभाग्य पर गर्व से मस्तक और ऊँचा हो गया उसका ।
अपर्णाथपलियाल"रानू"
५ ०७ २०१७

Sponsored
Views 15
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
aparna thapliyal
Posts 39
Total Views 503

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia