सोचकर देखो

Brijpal Singh

रचनाकार- Brijpal Singh

विधा- कविता

युग बदल रहा है तुम भी जरा बदल कर देखो मोह-माया से दूर कहीं सीधे चलकर देखो !

वक्त का सुरुर बहुत कुछ है कहता यहाँ , मंज़िल है कहाँ तुम बस ये सोच कर देखो !

आयेगा वक्त इस कदर तुम्हारा भी कभी, बडे हो गये हो ज़रा बडा सोचकर देखो !

मिलेगा यहाँ फरिश्ते की तरह कोई, अब की बार भरोसा करके तो देखो !

खुदा ने भेजा है तुम्हे किसी अच्छे के लिये यहाँ , इस कदर कभी खुद को समझकर तो देखो !

आस्था भी निराधार भक्ति भी जरुरी यहाँ, सयंम कभी तो कभी खुद को शांत करके तो देखो !

बदल गया यहाँ बहुत कुछ यहाँ, खुद को भरी नींद से जगा कर तो देखो !

.. ..बृज

Sponsored
Views 81
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Brijpal Singh
Posts 53
Total Views 2.5k
मैं Brijpal Singh (Brij), मूलत: पौडी गढवाल उत्तराखंड से वास्ता रखता हूँ !! मैं नहीं जानता क्या कलम और क्या लेखन! अपितु लिखने का शौक है . शेर, कवितायें, व्यंग, ग़ज़ल,लेख,कहानी, एवं सामाजिक मुद्दों पर भी लिखता रहता हूँ तज़ुर्बा हो रहा है कोशिश भी जारी है !!

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
2 comments