सेवा

सन्दीप कुमार 'भारतीय'

रचनाकार- सन्दीप कुमार 'भारतीय'

विधा- लघु कथा

लघुकथा – "सेवा"
***************

"माँ , जल्दी से पानी ले आओ, और फिर मस्त सी चाय पिला दो।" मोहन ने घर में घुसते हुए माँ को आवाज लगाई ।

"आज तो गुरु जी के आश्रम में सेवा करते हुये थक गये यार, बहुत सेवा की आज ।" पत्नी स्वाति से कहते हुये मोहन सोफे पर ही पसर गया ।

"बेटा मुझे डाक्टर के पास ले चलना, साँस बहुत फूल रही है कुछ दिनों से ।" सावित्री देवी ने मोहन और स्वाति के सामने चाय रखते हुए कहा ।

"माँ तुम खुद ही चली जाना, हम दोनों आज सेवा में गये थे थक गये हैं।"

"माँ जी, आज शाम का खाना भी आपको ही बनाना पड़ेगा मै भी सेवा में बहुत थक गयी हूँ ।" स्वाति ने भी अपनी बात रखते हुए कहा ।

"हे भगवान इनकी सेवा स्वीकार कर लेेेेना । " साााावित्री देवी नेे इतना ही कहा और अपने कमरे की ओर चल दी ।

"सन्दीप कुमार "

27/08/2017

Sponsored
Views 7
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
सन्दीप कुमार 'भारतीय'
Posts 63
Total Views 6.1k
3 साझा पुस्तकें प्रकाशित हुई हैं | दो हाइकू पुस्तक है "साझा नभ का कोना" तथा "साझा संग्रह - शत हाइकुकार - साल शताब्दी" तीसरी पुस्तक तांका सदोका आधारित है "कलरव" | समय समय पर पत्रिकाओं में रचनायें प्रकाशित होती रहती हैं |

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia