सेना पे राजनीती

Pooja Singh

रचनाकार- Pooja Singh

विधा- कविता

"देश है महान अपना ,शौर्यता की खान है ,
इस धरा पे चमकते सूर्य के सामान है !
हिमालय जिसका मुकुट और हिन्द जिसका नाम है ,
विश्व के पटल पे जो आज भी शोभायमान है !
गर्व है की वो हमारी जन्मभूमि है ,
ऐसे भारत भूमि का फिर हाल क्यों बेहाल है ?
बदलाव सबको चाहिए पर साथ कौन कौन है ?
विकास को यु रौंदने खड़े कितने गद्दार हैं !
अपने कंधो पर उठाता देश की जो नींव है ,
उसे गिराने के लिए भी गद्दार तल्लीन हैं !
नोट उनकी आत्मा और वोट उनकी सांस है ,
धर्म के नाम पे फ़ैलाते हाहाकार हैं !
जीतते चुनाव हैं तो जनता का आशीर्वाद है ,
यदि हार गए चुनाव तो वोटिंग मशीन का झोल है
सैनिक का अपमान देख तो तुम्हारे मुँह बंद हैं ,
पर देशद्रोहियों के लिए तुम्हारे दिल में दर्द है !
ये कैसी विडम्बना और कैसी राजनीती है ?
जो सैनिको के रक्त से ही सनी हुई है !
कुछ तो शर्म करके तुम एक बार सोच लो !
बिना सैनिको के इस देश का क्या हश्र हो ?
या तो विरोधियों को तुम करारा जवाब दो
अन्यथा तुम खुद जाके सीमा पर तैनात हो "

(पूजा सिंह )

Sponsored
Views 13
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Pooja Singh
Posts 17
Total Views 610
I m working as an engineer in software company .I m fond of writing poems .

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia