सुनि ले अम्मा कासे बोली आपन शुद्ध बघेली !!

Ashish Tiwari

रचनाकार- Ashish Tiwari

विधा- कविता

बहुत दिना भा खाए होइगा बहुरी लाटा तेली !
अजुअव देख कहा हम बिसरन घुघुरी गुड़ के भेली !!

बचपन के दिन कभौ ना लउटी घर अई कइके दंगा !
बहरा अउर नदी मा कूदी होई होई हम सब नंगा !!

रोज़ एकठे जघिआ फाटय छाला पड़य हथेली !
सुनि ले अम्मा कासे बोली आपन शुद्ध बघेली !

सुधि आबाथी अम्मा हमही सार बुसउला सथरी !
जाऊँ सुंदर हम ओढ़ी के सोई धोती बाली कथरी !!

साथ मा रोटी अउर कनेमन जब हाथे मा देते !
लाला हीरा मुन्ना कहिके झट से गोद मा लेते !!

बिछुड़ गए सब साथी आपन अब केके संग खेली !
सुनि ले अम्मा कासे बोली आपन शुद्ध बघेली !

जब खेली हम गोली गिट्टा लेहे डड़उका मरते !
चोट लगय जब हाथ पाव मा ज़ख्म तहिन ता भरते !!

तोता कस रोज़ बिहन्ने रटते पढ़ ले दादू भइया !
उरिन नहीं हम तोसे कबहूं सुनि ले मोरे मइया !!

देख देख जिउ कुहुक उठत है कब बनी मोर हवेली !
सुनि ले अम्मा कासे बोली आपन शुद्ध बघेली !

कहे रहन ना अम्मा तोसे तोरव एकदिन लउटीं !
हाथ के तोरे चूल्हा बरतन खोबा दूसर अउटी !!

गाड़ी घोड़ा बगली बँगला नौकर चाकर होई !
दुसरे घरके बनके बिटिया धोती ओन्ना धोई !!

हाथ पाव मा तेल लगाईं दुलहिन नई नवेली !
सुनि ले अम्मा कासे बोली आपन शुद्ध बघेली !!

मौलिक Kavi Ashish Tiwari Jugnoo
08871887126 / 09200573071…

Sponsored
Views 90
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Ashish Tiwari
Posts 45
Total Views 2.6k
love is life

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia