**** ‘सीख’ होती है अनमोल*****

Neeru Mohan

रचनाकार- Neeru Mohan

विधा- कविता

*पंछी से सीखा है मैंने
ऊँचें उड़ना चहचहाना |

*सूरज से सीखा है मैंने
नई सुबह की किरण फैलाना |

*ऊँचे नभ-गगन से सीखा
शीतलता का एहसास पुराना|

*अपनी इस धरती से सीखा
ममता का आँचल फैलाना |

*सागर से सीखा है मैंने
हर नैया को पार लगाना |

*सीखा उसकी लहरों से है
बढ़ते जाना बढ़ते जाना |

*उस बहती नदिया से सीखा
दुख को कैसे पार लगाना |

*सीखा उस ऊँचे पर्वत से
शीश उठाकर जीते जाना

*पथरीली राहों से सीखा
मुश्किल में मंजिल को पाना |

*राह के उस पथिक से
सीखा मंजिल को आसान बनाना |

*लाखों उन तारों से सीखा
रोशन होकर टिम टिमाना |

*उस चंदा से भी सीखा है
घटना,बढ़ना और चमकाना |

*काली बदरी से सीखा है
सुख की वर्षा करते जाना |

*वर्षा की बूँदों से सीखा
रहागीर की प्यास बुझाना |

*मौसम से सीखा है मैंने
आना-जाना सुख बरसाना|

*सावन के झोंकों से सीखा
चलते-जाना कभी न रूकना |

*सावन के झूलों से सीखा
परदेसी को पास बुलाना |

*अपने देश से सीखा मैंने
हाथ मिलाकर कदम बढ़ाना |

*उस परदेसी से भी सीखा
अपने देश की शान बढ़ाना |

*धरती के मानव से सीखा
सब धर्मों का आदर करना |

*सीखा हर छोटे बच्चे से
भेदभाव को दूर भगाना |

*एक है हम और एक रहेंगे
मिलजुल कर हम साथ चलेंगे |

*****कहे नीरू ये आज सभी सेे,
सीख कहीं से भी हो प्राप्त,******
******रखो उसे तुम सहज संभाल |

Views 35
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Neeru Mohan
Posts 80
Total Views 3.4k
व्यवस्थापक- अस्तित्व जन्मतिथि- १-०८-१९७३ शिक्षा - एम ए - हिंदी एम ए - राजनीति शास्त्र बी एड - हिंदी , सामाजिक विज्ञान एम फिल - हिंदी साहित्य कार्य - शिक्षिका , लेखिका friends you can read my all poems on my blog (काव्य धारा) blogspot- myneerumohan.blogspot.com

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia