सिर्फ तुम/मंदीप

Mandeep Kumar

रचनाकार- Mandeep Kumar

विधा- गज़ल/गीतिका

सिर्फ तुम/मंदीपसाई

तारो में तुम
फिजाओ में तुम
हो चाँद की चादनी में तुम।
~~~~~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~~~~~
बागो में हो तुम
बहरों में हो तुम
फूलो की खुशबुओं में हो तुम।
~~~~~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~~~~~
रास्तो में हो तुम
गलियो में हो तुम
सड़क के हर मोड़ हो तुम।
~~~~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~~~~
मेरे हर अर्फ में हो तुम
मेरे हर शब्द में हो तुम
मेरी भाषा में हो तुम।
~~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~~
मेरी जुबा पर हो तुम
मेरी आँखो में हो तुम
मेरी आँसुओ में हो तुम।
~~~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~~~
मेरी महबूबा हो तुम
मेरी प्रेमिका हो तुम
और मेरा दिलबर भी तुम।
~~~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~~~
मेरी कविता में हो तुम
मेरी गजल में हो तुम
मेरी कहानी में हो तुम।
~~~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~~~
मेरा मान हो तुम
मेरा अरमान हो तुम
मेरा सपना हो तुम।
~~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~~
मेरी सोच में हो तुम
मेरी बातो में हो तुम
मेरी कल्पना में हो तुम।
~~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~~
मेरी ऋतू हो तुम
मेरी परी हो तुम
मेरा साई भी हो तुम।
~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~
मेरे पास हो तुम
मेरे खास हो तुम
मेरे हमेसा साथ हो तुम।
~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~
मेरे हाल में हो तुम
मेरे दुःख में हो तुम
मेरे सुख में हो तुम।
~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~
मेरे जहन में हो तुम
मेरे दिमाग में हो तुम
मेरे दिल में हो तुम।
~~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~~
मेरी सासों में हो तुम
मेरी रूह में हो तुम
मेरे मन में हो तुम।
~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~
मेरी आन हो तुम
मेरी सान हो तुम
मेरा मान हो तुम।
~~~~~~~~~
~~~~~~~~~
मेरी आस हो तुम
मेरा साहस हो तुम
मेरा होसला हो तुम
~~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~~
मेरे दिन में हो तुम
मेरे कल में हो तुम
मेरे आज में हो तुम
~~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~~
मेरे काल में हो तुम
मेरे वर्तमान में हो तुम
मेरे भविष्य में हो तुम।
~~~~~~~~~~~~
मेरा शिव हो तुम
मेरा राम हो तुम
मेरा ठाकुर भी हो तुम।
~~~~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~~~~
मेरी आत्मा हो तुम
मेरी परमात्मा हो तुम
मेरा परमेश्वेर हो तुम।
~~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~~
मेरे जीवन में हो तुम
मेरे मरण में हो तुम
मेरे अंत में हो तुम।

मंदीपसाई

Sponsored
Views 109
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Mandeep Kumar
Posts 78
Total Views 2.1k
नाम-मंदीप कुमार जन्म-10/2/1993 रूचि-लिखने और पढ़ाने में रूचि है। sirmandeepkumarsingh@gmail.com Twitter-@sirmandeepkuma2 हर बार अच्छा लिखने की कोशिस करता हूँ। और रही बात हम तो अपना दर्द लिखते है।मेरा समदिल मेरे से खुश है तो मेरी रचना उस के दिल का बखान करेगी।और जब वो रूठता है तो मै मेरे दिल का बखान करूँगा।हा पर बहुत अच्छा है वो और मेरे दिल में उस के लिए खास ही जगह है ।जहाँ तक कोई पहुँच भी नही पायेगा। मेरा दिल जरूर दुःखता है पर मेरा दिल उसे बार बार माफ़ कर देता है।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia