सिंगार जब करती

डॉ मधु त्रिवेदी

रचनाकार- डॉ मधु त्रिवेदी

विधा- गज़ल/गीतिका

सिंगार जब करती , आयना दुबकता है
उतर जमीं पर ये चाँद , आह भरता है

दिखे मुझे वह जैसे , हो अप्सरा सी कोई
जरा नजर भर देखूँ ,तो दिल मचलता है

बना है आशिक तेरा , न भूल पाये अब
ये रात दिन बस केवल , तुझे ही भजता है

नही पता मुझसे आज , वो रूठी क्यों है
उसे मना कर जी लूँ , जिया तड़पतां है

ये दिल नहीं लगता , जो न पास तू होती
विरह में व्याकुल दिल , याद में सुलगता है

Views 34
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
डॉ मधु त्रिवेदी
Posts 273
Total Views 3.5k
डॉ मधु त्रिवेदी प्राचार्या शान्ति निकेतन कालेज आगरा स्वर्गविभा आन लाइन पत्रिका अटूट बन्धन आफ लाइन पत्रिका झकास डॉट काम जय विजय साहित्य पीडिया होप्स आन लाइन पत्रिका हिलव्यू (जयपुर )सान्ध्य दैनिक (भोपाल ) सच हौसला अखबार लोकजंग एवं ट्र टाइम्स दिल्ली आदि अखबारों में रचनायें विभिन्न साइट्स पर परमानेन्ट लेखिका

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia