सवैया छंद

तेजवीर सिंह

रचनाकार- तेजवीर सिंह "तेज"

विधा- अन्य

🌹🌻 मत्तगयन्द सवैया 🌻🌹
✏विधान- ७भ+गु गु
🌴🌹🌻🌺🌼🌺🌼🌹🌻🌴

देखि रहे नैना धर धीरज, तान बजावत जू स्वर-साधा।
बैन मधूमय कानन गूंजत, काटि रहे हिय की सिग व्याधा।
श्याम बिना सुकुमारि अधूरिहिं, कृष्ण-प्रिया बिन श्यामल आधा।
टेरत है शतचन्द्र प्रभा सुर, बैनन-सैन पुकारत राधा।

श्याम सखा हित आजु चलौ सखि, नीर भरें अरु नैन निहारें।
बाँकपनौ लखि लाल-रसालहिं, नैनहिं-नैन निकुंज बिहारें।
रूप-अनूप लखें मुरलीधर, आठहुँ याम सुनाम पुकारें।
आजु ठड़ौ छलिया तट यामुन, नेह भरी उर राह बुहारें।

धेनु चरावत यामुन के तट, बाजि रही मुरली सुखकारी।
मोर पखा धर शीश रिझावत, कान्ह लगै सखि री हितकारी।
सूरतिया मन मोह रही जनु, पूनम चन्द्र निशा उजियारी।
'तेज' हिलोर उठें मनवा महँ, देखत सैनन सौं गिरिधारी।

🌴🌹🌻🌺🌼🌺🌼🌹🌻🌴
🙏तेज✏मथुरा✍

Sponsored
Views 2
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
तेजवीर सिंह
Posts 89
Total Views 1.4k
नाम - तेजवीर सिंह उपनाम - 'तेज' पिता - श्री सुखपाल सिंह माता - श्रीमती शारदा देवी शिक्षा - एम.ए.(द्वय) बी.एड. रूचि - पठन-पाठन एवम् लेखन निवास - 'जाट हाउस' कुसुम सरोवर पो. राधाकुण्ड जिला-मथुरा(उ.प्र.) सम्प्राप्ति - ब्रजभाषा साहित्य लेखन,पत्र-पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन तथा जीविकोपार्जन हेतु अध्यापन कार्य।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia