सरस्वती माँ की कृपा

Mamta Rani

रचनाकार- Mamta Rani

विधा- कविता

सरस्वती माँ की कृपा,
बनी रहे सबपर।
विद्या और बुद्धि का हो संचार,
सरस्वती माँ की कृपा,
बनी रहे बरकरार।

माँ इसी तरह हर साल आना,
अपने साथ ढेरों खुशियां लाना।
सब के मन में सदबुद्धि लाना

सब का मन निर्मल कर दो,
है वीणावादिनी ऐसा कर दो।
सब की झोली खुशियों से भर दो।

है माँ आपकी कृपा ,
बनी रहे हमपर।
ऐसा ही उपकार करना,
सब की झोली
ज्ञान से भरना।

नाम-ममता रानी,राधानगर,(बाँका)

Sponsored
Views 37
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Mamta Rani
Posts 17
Total Views 455

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia