💝💝सरकार तुम्हारी आँखों में💝💝

Radhey shyam Pritam

रचनाकार- Radhey shyam Pritam

विधा- कविता

सजा है जन्नत का दरबार तुम्हारी आँखों में।
खोया हुआ हूँ मैं तो सरकार तुम्हारी आँखों में।।

कोई मंदिर,मस्जिद,गिरजा,गुरुद्वारों में खोजे।
मुझे हो गया कुदरते-दीदार तुम्हारी आँखों में।।

पर्वत से ऊँचा,सागर से गहरा है दोस्त प्रिय!
फैला ये प्यार का विस्तार तुम्हारी आँखों में।।

कौन अपना-पराया, ऊँचा-नीचा है मन-मंदिर।
सबके लिए समदृष्टि- व्यवहार तुम्हारी आँखों में।।

सपने में देखा न जिसकी थी हाथों में ही रेखा।
मिला सानिध्य का वो सार तुम्हारी आँखों में।।

कर्म सर्वोपरि,विजय सच्चाई को है सदा मिली।
बुराई का वस्त्र रहा तार-तार तुम्हारी आँखों में।।

"प्रीतम"तेरी प्रीत जीवन की रीत बन गई अब।
देखता हूँ सुख-दुख का संसार तुम्हारी आँखों में।

Sponsored
Views 50
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Radhey shyam Pritam
Posts 165
Total Views 9k

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia