==* समशान नजर आता है *== (गजल)

SHASHIKANT SHANDILE

रचनाकार- SHASHIKANT SHANDILE

विधा- गज़ल/गीतिका

जर्रा-जर्रा इस घर का समशान नजर आता है
दर-दिवार से आंगन सुनसान नजर आता है !

जी रहा हूँ मगर बेख़ौफ़ मैं रोज इस घर में
देख कर आईना दिल परेशान नजर आता है !

जाने पतझड़ सी लगे डाली क्यों खुशियों की
रूठा रूठा सा मुझको भगवान नजर आता हैं !

ना है कोई मंजिल और ना कुछ हासिल यहाँ
मेरे ही घर वजूद मेरा मेहमान नजर आता है !

गर मिला "एकांत" कभी इस घर के साये में
तो अपना भी कोई कदरदान नजर आता है !

रोज जीता है "शशि" क्यों डर के परछाई में
अपनें ही जिंदगी से वो हैरान नजर आता है !
——————–//**–
शशिकांत शांडिले (एकांत), नागपुर
भ्र.९९७५९९५४५०

Views 33
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
SHASHIKANT SHANDILE
Posts 20
Total Views 149
It's just my words, that's it.

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia