सबेरा

डा. सूर्यनारायण पाण्डेय

रचनाकार- डा. सूर्यनारायण पाण्डेय

विधा- कविता

जब मन-मस्तिष्क,
सद की इक्छाओं से ओत-प्रोत हों,
भावनाएं, कामनाएं सब प्रभु को समर्पित हों
'कर्म' की निरन्तरता से
मन-मयूर झूम रहा हो
आगे, आगे और आगे
की भावना अन्तर में व्याप्त हो रही हो,
मेरे पथिक!
समझो वहीँ सबेरा है।
………
संसार की तथाकथित रीति-रिवाजों में,
जब मन बधा न हो,
नभ को छूने की ध्रुव इक्छा हो,
समस्त भौतिक कामनाएं/इक्छाएं
एक इंगित पर थम गईं हों,
न आश्रय की फिक्र हो न आश्रय देने की,
स्वतंत्रता के ऐसे बाग में
समझो सबेरा है।

Sponsored
Views 26
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
Posts 27
Total Views 1.3k
देश की विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में 1000 से अधिक लेख, कहानियां, व्यंग्य, कविताएं आदि प्रकाशित। 'कर्फ्यू में शहर' काव्य संग्रह मित्र प्रकाशन, कोलकाता के सहयोग से प्रकाशित। सामान्य ज्ञान दिग्दर्शन, दिल्ली : सम्पूर्ण अध्ययन, वेस्ट बंगाल : एट ए ग्लांस जैसी बहुचर्चित कृतियां 'उपकार प्रकाशन' से प्रकाशित। प्रत्येक चार माह पर समसामयिक सीरीज का लगातार प्रकाशन, 'अंचल भारती' पत्रिका का सह-सम्पादन ।मो9450017326

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia