सफीना

milan bhatnagar

रचनाकार- milan bhatnagar

विधा- गज़ल/गीतिका

क्यों ग़मों मे बशर डूबता जा रहा है
फासला इंसानों में बढ़ता जा रहा है

मुल्क का जाने क्या अन्जाम होगा
नेतागिरी का पारा चढ़ता जा रहा है

कोई इसकी मुराद न हो पाएगी पूरी
जो पाँव चादर से निकला जा रहा है

तहजीब नाकाबिले-तारीफ़ हो रही है
पानी सरों से ऊपर उठता जा रहा है

संभल संभल कर रखना हर कदम
ये कही का कहीं फिसला जा रहा है

आसमां छूने की तमन्ना में हरेक
नीव का पत्थर उखड़ता जा रहा है

कश्तियाँ किनारे पहुचाने 'मिलन'
तूफानों में सफीना घिरा जा रहा है !!

मिलन "मोनी" १३/4/२०१७

Views 1
Sponsored
Author
milan bhatnagar
Posts 13
Total Views 128
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia