== सपने में ==

Ranjana Mathur

रचनाकार- Ranjana Mathur

विधा- कविता

सीमा पर प्रहरी बनकर,
तुम्हें है अपना देश बचाना।
तुम ने ही है मुझे सिखाया,
दूर रह कर भी साथ निभाना।
मैंने सीख लिया है प्रियवर,
तुम बिन इस दिल को समझाना।
सचमुच न आ पाओ प्रिय तो,
सपने में तो आ जाना।

विरह के उठते धुंए में शनैः शनैः,
तुम्हारे चेहरे का धुंधलाना।
स्मरण कर-करके तुम्हारा,
साँसों का मेरी रुक-रुक जाना।
दिवास्वप्नों के सतरंगी झूलों में,
अब और न मुझे झुलाना।
सचमुच न आ पाओ प्रिय तो ,
सपने में तो आ जाना।

अनुभूति तुम्हारी रोम-रोम में,
अहसास एक अजब अंजाना।
मेरा तुम बिन और तेरा मुझ बिन,
कभी अस्तित्व न मैंने जाना।
यह पता है न आओगे फिर भी,
करे इंतजार दिल दीवाना।
सचमुच न आ पाओ प्रिय तो,
सपने में तो आ जाना।

—रंजना माथुर दिनांक 12/08/2017
(मेरी स्व रचित व मौलिक रचना )
©

Sponsored
Views 39
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Ranjana Mathur
Posts 106
Total Views 3.6k
भारत संचार निगम लिमिटेड से रिटायर्ड ओ एस। वर्तमान में अजमेर में निवास। प्रारंभ से ही सर्व प्रिय शौक - लेखन कार्य। पूर्व में "नई दुनिया" एवं "राजस्थान पत्रिका "समाचार-पत्रों व " सरिता" में रचनाएँ प्रकाशित। जयपुर के पाक्षिक पत्र "कायस्थ टुडे" एवं फेसबुक ग्रुप्स "विश्व हिंदी संस्थान कनाडा" एवं "प्रयास" में अनवरत लेखन कार्य। लघु कथा, कहानी, कविता, लेख, दोहे, गज़ल, वर्ण पिरामिड, हाइकू लेखन। "माँ शारदे की असीम अनुकम्पा से मेरे अंतर्मन में उठने वाले उदगारों की परिणति हैं मेरी ये कृतियाँ।" जय वीणा पाणि माता!!!

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia