” —————————————– सपने कैसे पालें ” !!

Bhagwati prasad Vyas

रचनाकार- Bhagwati prasad Vyas " neerad "

विधा- गीत

कूट कूट पाषाण घड़े हैं , हैं आकार निराले !
जिन हाथों में शैशव पलता , उन हाथों में छाले !!

हाड़ तोड़ मेहनत है उस पर , यहां वहां की भटकन !
मेहनत को कोई तोले है , कोई हमें खंगाले !!

यहां वहां परिवार भटकता , बंजारों सा जीवन !
जाने कब बदलेगें दिन अब , हैं किस्मत पर ताले !!

वोट दिए हैं हमने भी पर , सरकारें ना जागी !
आज सुबह को खाना है तो , साँझ पड़े है लाले !!

भूखे पेट भजन ना होता , रात दिवस श्रम करते !
हाथ अगर फिर भी खाली हो , सपने कैसे पालें !!

पल पल हमने कठिन जिया है , पल पल हुई परीक्षा !
हंसी मिली है पलभर की तो , हम हैं इसे संभाले !!

आंखों में विश्वास है कायम , दिन अपने बदलेगें !
पढ़ लिख कर आगे बढ़ ललवा , खुशियां करी हवाले !!

बृज व्यास

Views 108
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Bhagwati prasad Vyas
Posts 99
Total Views 26.2k
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में रचनाओं का प्रकाशन ! एक लम्हा जिन्दगी , रूह की आवाज , खनक आखर की एवं कश्ती में चाँद साझा काव्य संग्रह प्रकाशित ! e काव्यसंग्रह "कहीं धूप कहीं छाँव" एवं "दस्तक समय की " प्रकाशित !

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia