सत्य की सरिता

Arun Kumar

रचनाकार- Arun Kumar

विधा- गीत

🌅
सत्य की सरिता
〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰
चल चलें उस ओर कि
सतन्याय सबको मिल सके ।
सत्य की सरिता में जन
अधिकार सबको मिल सके ।।

नित्य नूतन देशना से
मन ये सिंचित हो रहा है ।
सत्य शोधित मंत्रणा से
न्याय निर्मित हो रहा है ।।
दार्शनिक सदज्ञान का
आधार सबको मिल सके ।
सत्य की सरिता में………….

दुर्दिशा में जा रही
धारा मनुज संज्ञान की ।
धूर्त के चंगुल में है
अब शांति हर इंसान की ।।
स्वातंत्र्य और सामर्थ्य का
विस्तार सबको मिल सके ।
सत्य की सरिता……………….

आज तो हर कण जगत का
गीत सत का गा रहा है ।
न्याय का वारिद तृषा की
ओर सत्वर जा रहा है ।।
सामरिक यह पूर्णता
अब हर किसी को मिल सके ।
सत्य की सरिता…………….

-(सामरिक अरुण)
WCM NDS हरिद्वार
22/05/2016
www.nyayadharmsabha.org

Sponsored
Views 4
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Arun Kumar
Posts 18
Total Views 131
अहम् ब्रह्मास्मि

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia