सत्य की सरिता

Arun Kumar

रचनाकार- Arun Kumar

विधा- गीत

🌅
सत्य की सरिता
〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰
चल चलें उस ओर कि
सतन्याय सबको मिल सके ।
सत्य की सरिता में जन
अधिकार सबको मिल सके ।।

नित्य नूतन देशना से
मन ये सिंचित हो रहा है ।
सत्य शोधित मंत्रणा से
न्याय निर्मित हो रहा है ।।
दार्शनिक सदज्ञान का
आधार सबको मिल सके ।
सत्य की सरिता में………….

दुर्दिशा में जा रही
धारा मनुज संज्ञान की ।
धूर्त के चंगुल में है
अब शांति हर इंसान की ।।
स्वातंत्र्य और सामर्थ्य का
विस्तार सबको मिल सके ।
सत्य की सरिता……………….

आज तो हर कण जगत का
गीत सत का गा रहा है ।
न्याय का वारिद तृषा की
ओर सत्वर जा रहा है ।।
सामरिक यह पूर्णता
अब हर किसी को मिल सके ।
सत्य की सरिता…………….

-(सामरिक अरुण)
WCM NDS हरिद्वार
22/05/2016
www.nyayadharmsabha.org

Views 3
Sponsored
Author
Arun Kumar
Posts 18
Total Views 93
अहम् ब्रह्मास्मि
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia