सच्चा सुख

Rajesh Kumar Kaurav

रचनाकार- Rajesh Kumar Kaurav

विधा- कविता

सुख पाने की चाह में,
भटक रहा इन्सान।
विरले ही पाते इसे,
बहुतेरे है अनजान।
बढ़ती सुविधा सामग्रियॉ,
इन्द्रिय भोग विलास।
इन्हें ही सुख मानकर,
करता जीवन नास ।
धन दौलत में ढूढता,
मिलता झूठा मान।
शारीरिक बलिष्ठता से,
बढ़ता ही है अभिमान।
सौन्दर्य भी सुख देता नहीं,
कहते चतुर सुजान।
पढे़ लिखे न जान सके,
सुख की क्या पहचान।
फिर सुख मिलता किसे,
भाव संवेदना का प्रश्न है।
वाह्य साधनो में सुख कहॉ,
मृग मरीचिका सदृश्य है।
सरलता,शुचिता, सात्विकता से,
जीवन होता धन्य है।
इन्हीं गुणो की त्रिवेणी में,
मिलता सच्चा सुख है।
राजेश कौरव "सुमित्र"
उ.श्रे.शि.बारहाबड़ा

Views 22
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Rajesh Kumar Kaurav
Posts 24
Total Views 736

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia