सच्चाई से मिल गया हु

राजेन्द्र कुशवाहा

रचनाकार- राजेन्द्र कुशवाहा

विधा- मुक्तक

दुनिया की नज़र मे मै गुम गया हु।
सच पुछो तो सच्चाई से मिल गया हु।

कभी शोलो से खेला करता था,
पर आज शबनम से जल गया हु।

गैरो से गले लग कर ईद और दिवाली मनाता रहा,
जमी पर चलने क्या, लगा कि अपनो को खल गया हु।

मुझे संभालना काफिलो का जिम्मा है,
पैर जख्मी है, फिर भी चल गया हु।

शाहीने परबाज मुझे ढुङो,
बजंर जमी मे भी खिल गया हु।
✍ राजेन्द्र कुशवाहा

Sponsored
Views 42
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
राजेन्द्र कुशवाहा
Posts 11
Total Views 145
DOB - 12/07/1996 पता - मो.पो. - चीचली, जिला - नरसिंहपुर, तहसील - गाडरवारा, म. प्र. मोबाइल न. 7389035257 करना वहीं राजेन्द्र जो दुनिया को दिखाई दे। स्वरो को करना बुलंद इतने की लाखों मे सुनाई दे।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia