सखी

मधुसूदन गौतम

रचनाकार- मधुसूदन गौतम

विधा- अन्य

बात हुई तुमसे री सखी।
सारी बाते ही तुम्हे लिखी।
पर देखो किस्मत का फेर
सारी बातें कही और दिखी।
नाम तुम्हारा देख न पाया।
अति आनदं था मन समाया।
बस लिख दी सब मन की।
जिसने पढ़ा वो समझ न पाया।
मै सोचा तुम निष्टुर हो गई।
या भावो में कहीं पे खो गई।
जवाब नही आया कोई तुमसे।
देखा तो गलती मुझसे हो गई।

Sponsored
Views 2
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
मधुसूदन गौतम
Posts 68
Total Views 1.4k
मै कविता गीत कहानी मुक्तक आदि लिखता हूँ। पर मुझे सेटल्ड नियमो से अलग हटकर जाने की आदत है। वर्तमान में राजस्थान सरकार के आधीन संचालित विद्यालय में व्याख्याता पद पर कार्यरत हूँ।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia