शेर

bunty singh

रचनाकार- bunty singh

विधा- शेर

''शहर में हर शख्स तनहा अनमना बहरा मिला
कोठियाँ सब की अलग सब का जुदा कमरा मिला'
.
.
.
.
.
;;रौनकें ही रौनकें थी आप जब तक थीं वहां
ख्वाब में आया वही मंज़र मुझे वीरां मिला'

Views 1
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
bunty singh
Posts 22
Total Views 112
साहित्य एवं संगीत में रूचि की वजह से आपके बीच हूँ .rnजब लिखना ज़रूरी हो जाता है 'तब लिखकर उलझने कम कर लेता हूँ rnदर्द की लोग दाद दिया करते हैं rn=====बंटी सिंह ===========

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia