*जिंदगी* (शायरी)

Neelam Ji

रचनाकार- Neelam Ji

विधा- शेर

खूबसूरत है जिंदगी खूबसूरत ये डगर ,
मगर बिन साथी के कटता नहीं सफर ।
जन्नत से सुंदर हो जाती है ये दुनिया ,
मिल जाए गर अच्छा कोई हमसफ़र ।।

गम को भी ख़ुशी से झेल लेंगे हम ,
बिखरी हुई जिंदगी समेट लेंगे हम ।
मिल जाए अगर साथ अपनों का ,
रुख जिंदगी का मोड़ देंगे हम ।।

ऐ बेरहम जिंदगी न इतना सितम कर ,
इंसान मैं शरीफ हूँ कुछ तो रहम कर ।
हर बार नहीं मैं गिरकर सम्भल पाऊंगी ,
टूटकर बिखर जाऊं न इतना जुल्म कर ।।

Views 129
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Neelam Ji
Posts 42
Total Views 8.5k
मकसद है मेरा कुछ कर गुजर जाना । मंजिल मिलेगी कब ये मैंने नहीं जाना ।। तब तक अपने ना सही ... । दुनिया के ही कुछ काम आना ।।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia