शिव शंकर भोले

Rita Yadav

रचनाकार- Rita Yadav

विधा- गीत

गंगाधर, विषहर ,शिव, शंकर ,भोले
बम बम बम बम हर हर बम भोले
संग आपके मात गौरा विराजे
तीनो लोक में डमरु बाजे

प्रभु अविनाशी, कैलाशवासी
तुम ही हो प्रभु औघरदानी
तुम सा ना कोई तीनो लोक में दानी

हे विश्वनाथ, हे पशुपतिनाथ
तेरे चरणों में मेरो माथ
हम अबोध बालक हैं आपके
सर पर हमेशा रखना हाथ

शक्ति, बल ,बुद्धि आपके परिवार
जिन्हें पूजता सारा संसार

रीता यादव

Views 8
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Rita Yadav
Posts 34
Total Views 1.2k

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia