शिक्षक

maheshjain jyoti

रचनाकार- maheshjain jyoti

विधा- गीत

शिक्षक दिवस पर …!
🌿🌿🌿🌹🌿🌿🌿
*तुम ही कृष्णा तुम ही राम *
******************
छैनी और हथौड़ी लेकर ,
मूर्तिकार ज्यों मूर्ति उभारे ।
शिष्यों के कल को शिक्षक ही,
अपने हाथों गढ़े सँवारे।।
तुमको बारम्बार प्रणाम ।
तुम ही कृष्णा तुम ही राम ।।
*
हम गीली मिट्टी के लौंदे ,
जैसे चाहो ढल जाते हैं ।
नहीं मिले संरक्षण तो फिर ,
ढेले जैसे गल जाते हैं ।।
पाषाणों के हम हैं टुकड़े ,
हम में छिपी हुई है मूरत ।
थोड़ा कोई काट-छाँट दे,
दिख जाती है असली सूरत ।।
ठोक पीट कर काट-छाँट कर ,
तुमने ही तो रूप निखारे ।
शिष्यों के कल को शिक्षक ही ,
अपने हाथों गढ़े सँवारे ।।
तुमको बारम्बार प्रणाम ।
तुम ही कृष्णा तुम ही राम ।।
*
तुमने ही शिक्षा देकर के ,
उर में दीपक ज्ञान जलाया ।
तुमने ही सत पथ पर हमको ,
हे गुरुवर ! चलना सिखलाया ।।
मोल ज्ञान का नहीं चुकेगा,
जीवन भर के ऋणी हो गये ।
तुमने सिर पर हाथ रखा तो ,
मन के दूषित भाव खो गये ।।
करें वंदना शीश झुका कर,
हम सब प्यारे शिष्य तुम्हारे ।
शिष्यों के कल को शिक्षक ही ,
अपने हाथों गढ़े सँवारे ।।
तुमको बारम्बार प्रणाम ।
तुम ही कृष्णा तुम ही राम ।।
*
जिसने गुरु की आज्ञा मानी ,
उसका ही जीवन सँवरा है ।
जीवन की गलियाँ टेढ़ी हैं ,
पथ भी इसका अति सँकरा है ।।
बड़े भाग्य शाली हैं हम सब ,
कृपा आपकी हमने पाई ।
ब्रह्मा विष्णु महेश आप हैं,
रहें आप गुरु सदा सहाई।।
कभी आपने डाँटा भी तो,
कभी प्रेम से सभी दुलारे ।
शिष्यों के कल को शिक्षक ही ,
अपने हाथों गढ़े सँवारे ।।
तुमको बारम्बार प्रणाम ।
तुम ही कृष्णा तुम ही राम ।।

महेश जैन 'ज्योति',
मथुरा ।
🌸🌹🌸

Sponsored
Views 2
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
maheshjain jyoti
Posts 21
Total Views 323
"जीवन जैसे ज्योति जले " के भाव को मन में बसाये एक बंजारा सा हूँ जो सत्य की खोज में चला जा रहा है अपने लक्ष्य की ओर , गीत गाते हुए, कविता कहते और छंद की उपासना करते हुए । कविता मेरा जीवन है, गीत मेरी साँसें और छंद मेरी आत्मा । -'ज्योति'

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia