शिक्षक देश के निर्माता

Neeru Mohan

रचनाकार- Neeru Mohan

विधा- मुक्तक

कहते हैं,जो राष्ट्र अपने देश के शिक्षकों का सम्मान करता है|
उसका भविष्य सदैव उज्ज्वल रहता है|
ज्ञान हमें शक्ति देता है|
प्रेम हमें परिपूर्णता देता है|
पुस्तके वह साधन है,
जिसके माध्यम से हम,
विभिन्न संस्कृतियों के बीच,
पुल का निर्माण कर सकते हैं|
एक शिक्षक के लिए सफलता का सबसे बड़ा संकेत…. यह कह पाना है कि "बच्चे अब ऐसे काम कर रहे हैं जैसे कि मेरा कोई अस्तित्व ही न रहा हो|"

हे शिक्षक तुम्हें नमन!
महान हो तुम,गुणवान हो तुम|
ज्ञान की सदा से खान हो तुम|
जल से निर्मल,पुष्प से कोमल|
शिष्यों के भाग्य विधाता हो तुम| नदियों से पावन, पर्वत से ऊंचे|
सूरज जैसे तेजवान हो तुम|
सागर से गंभीर,हृदय से कोमल|
ज्ञान की गंगा का सागर हो तुम|
इस जग में तुम सा कोई नहीं,
संपूर्णता का वरदान हो तुम|
हे शिक्षक! तुम्हें नमन
महान हो तुम,गुणवान हो तुम|

Views 25
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Neeru Mohan
Posts 87
Total Views 4.2k
व्यवस्थापक- अस्तित्व जन्मतिथि- १-०८-१९७३ शिक्षा - एम ए - हिंदी एम ए - राजनीति शास्त्र बी एड - हिंदी , सामाजिक विज्ञान एम फिल - हिंदी साहित्य कार्य - शिक्षिका , लेखिका friends you can read my all poems on my blog (साहित्य सिंधु -गद्य / पद्य संग्रह) blogspot- myneerumohan.blogspot.com

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia