शिक्षक दिवस पर दोहे रमेश के

RAMESH SHARMA

रचनाकार- RAMESH SHARMA

विधा- दोहे

गुरु दिखलाये राह जब ,मिले नसीहत ज्ञान !
खिले उन्ही की सीख से, जीवन का उद्यान !!

शिक्षक का होता नहीं, खत्म कभी टेलेन्ट !
और न शिक्षा से कभी, मिले रिटायरमेंट !!

जाने कैसा दौर है, रही नहीं अब शर्म !
गुरु चेला दोनों यहाँ ,. भूले अपना धर्म !!

मुश्किल है इस दौर में,…. मानव की पहचान !
सद्गुरु पाना किस तरह, होगा फिर आसान !!
रमेश शर्मा

Sponsored
Views 30
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
RAMESH SHARMA
Posts 175
Total Views 3.2k
अपने जीवन काल में, करो काम ये नेक ! जन्मदिवस पर स्वयं के,वृक्ष लगाओ एक !! रमेश शर्मा

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia