शायरी –

पुष्पराज यादव

रचनाकार- पुष्पराज यादव

विधा- शेर

ये मेरी बेबसी है या मेरी गुरूरदारी है ;
चंद लम्हों की जिन्दगी में ख्वावजारी है |
ख्वाहिशों के दिये जो भी जले बुझते ही गये;
उन आंधियाों को कैसे रोकूं जिनसे मेरी यारी है |

Views 633
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
पुष्पराज यादव
Posts 9
Total Views 696
एक हिन्दी कवि एवं लेखक जो कविता, गीत, गजल, मुक्तक, दोहा, छंद रचनाकार श्रंगार रस एवं युगधर्म प्रधान कवि | हिन्दी साहित्य विद्यार्थी|

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia