शहीदों की इच्छा***

Dinesh Sharma

रचनाकार- Dinesh Sharma

विधा- कविता

चल दिये अपनी जान वतन
पर फिदा करके,
सोच रही है तड़पती आत्मा
वार भारी पक्का होगा,
आतंक के खिलाफ निर्णायक जंग होगा,
जीत अपनी पक्की
पक्का इंसाफ होगा,
मिलेगी आत्मा को शान्ति
ये ही हमारा मान होगा,
ना चाहिए हमे धन-दौलत
न ही इच्छा शोहरत की है,
बस हमारी यही तमन्ना
शान्ति का इतिहास रचने की
क़ुरबानी जायेगी नही व्यर्थ
ये बात सच्ची है,
दुश्मनो पर पड़ जायेगे भारी
जीत अपनी पक्की है
दुनिया मान जायेगी हमारा लोहा,
और कहेगी….
हिदुस्तानी फौज विजयी शक्ति है
देश भक्ति उनकी गजब की सच्ची है।

^^^जय हिन्द^^^

******दिनेश शर्मा******

Sponsored
Views 69
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Dinesh Sharma
Posts 44
Total Views 2.2k
सब रस लेखनी*** जब मन चाहा कुछ लिख देते है, रह जाती है कमियाँ नजरअंदाज करना प्यारे दोस्तों। ऍम कॉम , व्यापार, निवास गंगा के चरणों मे हरिद्वार।।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
One comment
  1. सच में आज शहीदों की आत्मा को शांति मिली होगी,हमारे देश के जांबाज सैनिको ने पाकिस्तानी आतंकवादियो को उनके घर में घुस कर मुँहतोड़ जवाब दिया है।।
    जय हिन्द।।