शर्म आती क्या राजधानी को???

आनंद बिहारी

रचनाकार- आनंद बिहारी

विधा- गज़ल/गीतिका

#उरी के शहीदों को समर्पित…

कौन भूलेगा इस कहानी को
शहीदों को, उनकी क़ुर्बानी को।1।

सुर्ख़ केशर है शहीदों के खूं से
ना भुलाना है खाद-पानी को।2।

बूढ़े माँ-बाप, लाचार बीवी-बच्चे
कौन संभाले इस निशानी को।3।

उनके मांदों में घुस हलाल करो
करें वो याद दादी-नानी को।4।

बहुत हुआ, बर्दास्त अब नहीं होता
रोको ना हिन्द की जवानी को।5।

शर्म आती क्या इस शहादत पे
इस दिल्ली को, राजधानी को?6।

भूगोल, इतिहास भी बदल डालो
देश तैयार है नई कहानी को।7।

-आनंद बिहारी, चंडीगढ़ (19.09.2016)
m.facebook.com/anandbiharilive

Views 278
Sponsored
Author
आनंद बिहारी
Posts 25
Total Views 6.1k
गीत-ग़ज़लकार by Passion नाम: आनंद कुमार तिवारी सम्मान: विश्व हिंदी रचनाकार मंच से "काव्यश्री" सम्मान जन्म: 10 जुलाई 1976 को सारण (अब सिवान), बिहार में शिक्षा: B A (Hons), CAIIB (Financial Advising) लेखन विधा: गीत-गज़लें, Creative Writing etc प्रकाशन: रचनाएँ विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित FB/Tweeter Page: @anandbiharilive Whatsapp: 9878115857
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
One comment