शक्ति

sudha bhardwaj

रचनाकार- sudha bhardwaj

विधा- कविता

शक्ति:

धुंधली-2 सी परछाई।
विहिव्ल मन पर छाई।
दया दृष्टि पाने को तेरी।
यों आँख मेरी भरआई।
शक्ति का स्वरूप है तू !
हर ओर तिमिर माँ धूप है तू !
आँचल तेरा नील गगन सा।
निशा विभावरी बन आई।
तेरी दया की कोर चाहिये।
यहाँ-वहाँ हर छोर चाहिये।
उजली-निखरी भोर चाहिये।
नव-निर्मित चहु ओर चाहिये।

सुधा भारद्वाज
विकासनगर उत्तराखण्ड

Views 31
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
sudha bhardwaj
Posts 58
Total Views 811

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia