शंकर का अभिषेक

RAMESH SHARMA

रचनाकार- RAMESH SHARMA

विधा- दोहे

बच्चे खड़े कतार में ,भूखे जहाँ अनेक !
वहीं दूध से हो रहा,भोले का अभिषेक !!
…………………….
जिसने भी दिल से किया,भोले का गुणगान !
बदले में उसको मिला ,मन चाहा वरदान !!
………………………
भूत प्रेत पशु खग सकल,सभी थामकर हाथ !
भोले के परिवार में,. रहते हिलमिल साथ !!
……………………….
चन्दा साजे शीश पर,गल सर्पों का हार !
करें नित्य शव-भस्म से,महाकाल शृंगार!!
……………………….
दिनभर खाने को मिले, फरियाली बिंदास !
इसीलिये करते कई, शिव जी का उपवास !!
……………………….
भूखे को रोटी नहीं ,कभी खिलाई एक !
निराधार है आपका, शंकर का अभिषेक!!
रमेश शर्मा

Views 13
Sponsored
Author
RAMESH SHARMA
Posts 91
Total Views 789
अपने जीवन काल में, करो काम ये नेक ! जन्मदिवस पर स्वयं के,वृक्ष लगाओ एक !! रमेश शर्मा
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia