व्यंग्य -कविता

डॉ तेज स्वरूप भारद्वाज

रचनाकार- डॉ तेज स्वरूप भारद्वाज

विधा- कविता

बदल लेते हैं
—————
कुछ लोग अहसास बदल लेते हैं ,
कुछ लोग बिश्वास बदल लेते हैं ।
दामन तो कीचड़ से सना है लेकिन ,
कुछ लोग लिबास बदल लेते हैं ।।
अब तो चापलूसों की ही कदर होती है,
गुण्डों चोर उचक्कों पर ही नजर होती है ।
बगुनाहों पर बरस जाते हैं शोले ,
ईमानदारों की गर्दिश में बसर होती है ।।
कुछ लोग आवास बदल लेते हैं । कुछ लोग …….
आज तो बगुनाह पर गुनाहगार राज करता है,
गुनाहगार को ही सलाम समाज करता है ।
उसूल वालों को दरकिनार कर दिया जाता है,
खुशामदी मौकापरस्त पर नाज़ करता है ।।
मतलब निकल जाये तो कुछ खासमखास बदल लेते हैं । कुछ लोग ……………………
:- डाँ तेज स्वरूप भारद्वाज -:

Views 85
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
डॉ तेज स्वरूप भारद्वाज
Posts 36
Total Views 1.5k
Assistant professor -:Shanti Niketan (B.Ed.,M.Ed.,BTC) College ,Tehra,Agra मैं बिशेषकर हास्य , व्यंग्य ,हास्य-व्यंग्य,आध्यात्म ,समसामयिक चुनौती भरी समस्याओं आदि पर कवितायें , गीत , गजल, दोहे लघु -कथा , कहानियाँ आदि लिखता हूँ ।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia