वो हराभरा पेड़

सन्दीप कुमार 'भारतीय'

रचनाकार- सन्दीप कुमार 'भारतीय'

विधा- कविता

कल तक यहाँ एक हरा भरा पेड़ हुआ करता था
जिसकी छाँव में गाँव के बच्चे खेला करते थे
युवाओं की नयी योजनाये बनती थी
बुजुर्गों की चौपाल लगा करती थी
हर रोज़ एक नया रंग जमता था
तमाम पक्षियों का आशियाना था वो पेड़
पक्षियों की मधुर आवाज के साथ सूरज उगता था
उनके कलरव से ही शाम ढलती थी
उसी पेड़ के नीचे बैठकर सभी सपने बुना करते थे
एक रोज़ एक सरकारी पैगाम आया
गाँव में पक्की सड़क पास हुई थी
मगर एक समस्या आन खड़ी थी
वो पेड़ सड़क के बीच में आ रहा था
ठेकेदार भी सड़क को नक़्शे से ज़रा भी नहीं हटा रहा था
गाँव कि उस सबसे बुज़ुर्ग निशानी को गिरा दिया गया.
सड़क कुछ ही आगे बढ़ी थी एक और अड़चन खड़ी हुई
बीच में सेक्रेटरी का मकान आ गया था
अगली सुबह जब हम घर से निकले तो देखा
सेक्रेटरी के पडोसी का माकन गिरा दिया गया था
और रास्ते में एक बड़ा सा मोड़ दिया गया था
जो गिरा वो एक गरीब का मकान था
वो बेचारा सिवाए रोने के कुछ कर ही नहीं सकता था
ना तो वो लड़ सकता था और ना ही विरोध कर सकता था
वो तो हालातों का मारा था
उस पर एक और मार पड़ी थी
इस तरह सड़क ने ना जाने कितने बेजुबानो का आशियाना छीन लिया
गरीब भी तो एक बेजुबान ही तो होता है
बेचारा जुबान वाला होकर भी बेजुबानो की तरह जीता है
रोज़ ना जाने कितने अपमानों का घूँट पीता है
गर वो पेड़ बोल पाता तो ज़रूर अपनी जान की गुहार लगाता
शायद सेक्रेटरी की तरह वो भी कुछ जुगत लगाता
और इतने बेजुबानों का आशियाना बच जाता
मगर वो हम मतलबी मनुष्यों के बीच में था
उसने हमे कितना कुछ दिया
हमने भी तो उसके लिए कुछ नहीं किया
आज बस अलग अलग बैठे हुए अपने अपने सपने बुनते हैं
ना किसी को कुछ बता पाते हैं
ना बुजुर्गो कि नसीहते ही सुन पाते हैं
आज जब वो बड़ा सा पेड़ नहीं है
तो हम सोचते हैं कि वो सिर्फ पेड़ नहीं था
हम सभी के जीवन कि पाठशाला था
जिसकी छाँव में हमने हमेशा कुछ न कुछ नया सीखा
वो धरोहर था हमारे गाँव की जिसे हम सहेज भी ना सके

"सन्दीप कुमार"

Sponsored
Views 58
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
सन्दीप कुमार 'भारतीय'
Posts 63
Total Views 6.1k
3 साझा पुस्तकें प्रकाशित हुई हैं | दो हाइकू पुस्तक है "साझा नभ का कोना" तथा "साझा संग्रह - शत हाइकुकार - साल शताब्दी" तीसरी पुस्तक तांका सदोका आधारित है "कलरव" | समय समय पर पत्रिकाओं में रचनायें प्रकाशित होती रहती हैं |

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
3 comments